नई दिल्ली : सात चरणों में होने वाले 2019 के लोकसभा चुनाव में पहले चरण का प्रचार खत्म होने से ठीक पहले कुछ सर्वे आए हैं, जिसके मुताबिक प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की अगुवाई वाली NDA सरकार को 2014 में मिले प्रचंड बहुमत से कुछ कम सीटें मिल सकती हैं. ये सर्वे कांग्रेस के मेनिफेस्टो जारी करने के बाद और बीजेपी के संकल्प पत्र के लोकार्पण से पहले किया गया है. यानि इस दौरान कांग्रेस ने 72000 रुपये का बड़ा चुनावी वादा देश की जनता से कर दिया था. इन सभी सर्वो में केवल सीएनएक्स सर्वे एनडीए को 300 सीटों (295) के आस पास दिखा रहा है.

वही अगर यूपीए को सर्वाधिक सीटें मिलने की बात करे तो वीएमआर के सर्वे में यूपीए को सर्वाधिक 149 सीटें मिलने का दावा किया जा रहा है.

आइए देखते है किस सर्व में किसको कितनी सीटें मिलती दिख रही है 
सी वोटर  
NDA 267
UPA 142
अन्य 134
CSDS और लोकनीति  
NDA 263-283
UPA 115-135
अन्य 135 से 155
सीएनएक्स  
NDA 295
UPA 127
अन्य 121
वीएमआर 
NDA 279
UPA 149
अन्य 115
 
 इन सभी सर्वो को देखा जाए तो इस बात पर पहुँचा जा सकता है की इन चुनावों में मोदी सरकार के दोबारा आने की सम्भावनाए काफ़ी अधिक है. लेकिन 2014 में मिले प्रचंड बहुमत को दोहराते हुए मोदी नही दिखायी देते. इन सर्वो की माने जाए तो भाजपा अकेले उस स्थिति में नही होगी की वो ख़ुद सरकार बना सके. भाजपा को अपने सहयोगियों की ज़रूरत पड़ेगी. यह भी हो सकता है की अगर एनडीए बहुमत से कुछ सीटें पीछे रह जाए तो वह बीजू जनता दल, टीआरएस या जगमोहन रेड्डी से समर्थन माँग सकती है.

हालाँकि ये तीनो ही दल एनडीए का हिस्सा नही है लेकिन त्रिशंकु लोकसभा की स्थिति में ये तीनो दल भाजपा के साथ जा सकते है. उधर अगर कांग्रेस की बात की जाए तो इन सर्वो में ये देखा जा सकता है की कांग्रेस इस बार काफ़ी अच्छा प्रदर्शन कर सकती है. इन चुनावों में कांग्रेस 44 से 100 के आँकड़े तक पहुँच सकती है. हालाँकि सरकार बनाने के उसकी सम्भावनाए काफ़ी कम. अब कोई चमत्कार ही कांग्रेस की सरकार केंद्र में बनवा सकती है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here