नई दिल्ली : भारतीय जनता पार्टी ने लोकसभा चुनाव के लिए सोमवार को पार्टी का घोषणापत्र जारी कर दिया। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और अध्यक्ष अमित शाह की मौजूदगी में गृहमंत्री राजनाथ सिंह ने घोषणापत्र को जारी करते हुए राष्ट्रवाद से लेकर सभी मुद्दों को साधने का प्रयास किया। बीजेपी ने अपने घोषणापत्र में राम मंदिर निर्माण को भी शामिल किया है। हालांकि इस घोषणापत्र में बीजेपी से बड़ी गलती हो गई है।

घोषणापत्र में बीजेपी ने महिला सुरक्षा के प्रावधानों का जिक्र करते हुए Prevent की जगह commit शब्द यूज किया गया है। वहीं कांग्रेस ने इसे बड़ा मुद्दा बनाते हुए बीजेपी की कार्यशैली पर सवाल उठाए हैं। कर्नाटक कांग्रेस ने ट्वीट कर कहा की पीछले पाँच सालों में भाजपा ने 47 ऐसे लोगों को उम्मीदवार बनाया है जिनके ऊपर महिलाओं के विरुद्ध अपराध के मुक़दमे चल रहे है. 

बीजेपी ने राम मंदिर के अलावा घोषणापत्र में सबरीमाला मंदिर के मुद्दे को भी जगह दी गई है। घोषणापत्र में कहा गया है कि सबरीमाला से जुड़ी आस्था, परम्परा और पूजा पद्धति को बचाए रखने के लिए संवैधानिक सुरक्षा प्रदान की जाएगी।

इस दौरान राजनाथ सिंह ने कहा, “इस संकल्प पत्र के माध्यम से हम नए भारत के निर्माण में 130 करोड़ देशवासियों की आकांक्षाओं को विजन डॉक्यूमेंट के रूप में पेश कर रहे हैं. इस दौरान राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह ने कहा, “2014 का चुनाव आशाओं का चुनाव था, मोदी सरकार के 5 साल के कार्यकाल के बाद 2019 का चुनाव अपेक्षाओं का चुनाव होने वाला है. 2014-19 तक जो यात्रा चली है, इसमें देश का चहुमुखी विकास हुआ है. देश की आशा अब अपेक्षा में बदल चुकी हैं।

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here